भुला दिया है सब अपनों ने इस तरह से
जैसे के हम इस जहाँ मे रहते ही नहीं

Mene Apni Har Dua Me Tujhe Manga Hai.Hu Bewafa Lakin Wafa Se Tujhe Manga Hai.Kabhi Sajde Mai Puch Jakr Rab Se.Ke Mene Kis Kis Ada Se Tujhe Manga Hai

किसी एक के न मिलने से जिन्दगी तो नहीं रुकती
पर उसकी कमी जरूर बनी रहती है

किन लफ़्ज़ों में बयां करूँ अपने दर्द को ए ज़िन्दगी
सुनने वाले तो बहुत हैं समझने वाला कोई नहीं...

‪वफ़ा‬ की मौज ‪मस्ती‬ में अब भी ‪बादशाह‬ हैं हम
जो ‪दिल‬ को ‪तोड़‬ देते हैं हम उन्हें ‪छोड़‬ देते हैं

अब गिला क्या करना उनकी बेरुखी का
दिल ही तो था भर गया होगा

कैसे गुज़रती है मेरी हर एक शाम तेरे बगैर,
अगर तुम देख लेते तो कभी तनहा ना छोड़ते मुझे..

शाम के अंधियारे के आँचल में सर रखकर
कुछ आरजुएँ दिन भर की थकान मिटाती हैं

किताबो की तरह बहुत से अल्फाज़ है मुझमें
और किताबो की तरह ही खामोश रहता हूँ मैं

मैं दुआ में उसे माँगता हूँ और वो किसी और को
कभी कभी सोचता हूँ भगवान किसकी सुनेगा ?

जिसे भी देखा रोते हुए ही पाया,
.
मुझे तो ये इश्क़ किसी फ़क़ीर की बद्दुआ लगती है.

काश वो नया तरीका ए क़त्ल इज़ाद करे
मर जाऊ हिचकियों से वो इस कदर याद करे

ना जाने क्यूँ रेत की तरह हाथों से निकल जाते हैं लोग
जिन्हें हम जिंदगी समझ कर कभी खोना नहीँ चाहते..

Tumhara Hum-Safar Hona Meri Andhi Tamanna thi
Magar Dastoor e Duniya Hai Jise Chaho Nahin Milta

जहर से खतरनाक है यह मोहब्बत
जरा सा कोई चख ले तो मर मर के जीता है