खामोश हूँ सिर्फ़ तुम्हारी खुशी के लिये
ये न सोंचना कि मेरा दिल दुःखता नहीं

उसकी चाल ही काफी थी मेरे होश उडाने के लिए
अब तो हद हो गई है जबसे वो पाँव मे पायल पहनने लगी है

एक तेरा ही नशा था जो शिकस्त दे गया मुझे
वरना मयखाने भी तौबा करते थे मेरी मयकशी से!..

मोहब्बत ज़िंदगी बदल देती है
मिल जाये तब भी और न मिले तब भी

उसे मैं दिल में रख लेता, अगर होता यह बस में मेरे
उसे सब देखते हैं मुझसे यह देखा नहीं जाता

तुमने मुझे छोड़ कर किसी और का हाथ तो थाम लिया है
मगर ये याद रखना हर शक्स मोहब्बत नहीं करता

फ़रिश्ते ही होंगे जिनका हुआ इश्क मुकम्मल,
इंसानों को तो हमने सिर्फ बर्बाद होते देखा है….!

hareak rang ek nahi hote
mohabat me koi fareb nahi hote

Dekhte Hain Hum Dono Juda Kaise Ho Payenge
Tum Muqaddar Ka Likha Mante Ho Hum Dua Ko Aazmayenge

आँख में सुरमा लगाया तेज दो धारी हुई
लो हमारे कत्ल की फिर आज तैयारी हुई

ग़ज़ब है उसका हंस के नज़र झुका लेना
पूछो तो कहता है कुछ नही बस यूँ ही

मेरे सब्र का इंतेहा क्या पूछते हो.
वो मुझ से लिपट कर रोई भी तो किसी और के लिए.

Hadd ho gai intezar ki
aisi ki taisi aise pyar ki

labo ko labo se chu lene do
hume bhi mohabat kar lene do

खुद पर भरोसा करने का हुनर सीख लो
सहारे कितने भी सच्चे हो एक दिन साथ छोड़ ही जाते हैं...