आजकल दिल कुछ ठीक सा नही रहता
पता नही हम बदल गए या तुम
er kasz

Usne kaha jab tak tujhe manzil nahi milti me tumhare sath hun
Humne bhi keh diya Aye khuda agar yeh batt hai to hume sarri zindgi safar me hi rakhna
Er kasz

पूछता है जब कोई मुझसे कि दुनिया में अब मोहब्बत बची है कहाँ
मुस्कुरा देता हूँ मैं और याद आ जाती है माँ
er kasz

महाकाल के बेटे हैं इसलिए चुप बैठे है
वरना हमसे जो ऐठे है वो शमशान में लेटे है
er kasz

तेरी आँखों के सिवा दुनियाँ में रखा क्या है ये उठे सुबह चले
ये झूके शाम ढले मेरा जीना मेरा मरना इन ही पलकों के तले
er kasz

Yesterday I was clever so I want to changing the world
But today I m wise so I am changing myself

Agar dushmani krni hai to smne se karna
Aye Dost kyuki Piche se to kayar war karte hai
er kasz

Naraj ho jatye h wo waffa ki bat krta hu jab unse
Lgtta hai unhye bewafai se bahut pyar hai
er kasz

कुछ तो संभाल कर रखते
देखो मुझे भी खो दिया तुमने
Er kasz

Roti rahi sarri ratt vo islaiye
Jo pyas bhuj jaye uske bache ki

मेरे अपने कहीं कम न हो जाएँ
इस डरसे मुसीबत में किसी को आजमाता नहीं
Er kasz

Zindgi Tu Etna mat ettraa
Tu Bhi badlegi mere waqt ki trah
Er kasz

Kuch to batt hogi mere shayri ke alfazo me
yu hi to nahi duniyan meri shayri ko apne status lagati hai
er kasz

एक आंसूं कह गया सब हाल दिल का
मैं समजा था ये ज़ालिम बे ज़बान है
er kasz

Maine dekha hai Aksar
begunaho ke pass saBut kam padh jate hai
Er kasz