महाकाल के बेटे हैं इसलिए चुप बैठे है
वरना हमसे जो ऐठे है वो शमशान में लेटे है
er kasz

दिखावे की मोहब्बत से बेहतर है, दिल से नफरत किजिये हमसे
हम सच्चे जज्बातो की बडी कदर करते है

हमनेँ कहा तीखी मिर्ची हो तुम
वो होँठो से होंठ लगाकर बोली और अब

बात उन्हीं की होती है
जिनमें कोई बात होती है

हमारा जीने का तरीका थोडा अलग है
हम उम्मीद पर नहीं अपनी जिद पर जीते है

कभी काजल कभी बिंदिया कभी चूड़ी कभी कजरा
मुझे ज़ख़्मी किया ज़ालिम तेरे इन्ही हथियारो ने

ग़ज़ब है उसका हंस के नज़र झुका लेना
पूछो तो कहता है कुछ नही बस यूँ ही

वो मुझसे दूर रहकर अगर खुश है तो खूश रहने दो उसे
मुझे वैसे भी उसकी चाहत से ज़्यादा मुस्कुराहटपसंद है
er kasz

इजाजत हो तो तेरे पास आ जाऊं मै
चाँद के पास भी तो एक सितारा रहता है

साँस तो लेने दिया करो
आखँ खुलते ही याद आ जाते हो

सूना है आज वो छत पर सोने जा रही है
खुदा खैर कर उन सितारो की कही उसे चाँद समझ कर जमीं पर ना उतर आये

तेरे गुरुर को देखकर तेरी तमन्ना भी छोड दी हमने,
जरा हम भी तो देखे कौन चाहता है तुझे मेरी तरह..er kasz

erang hai har rang tuj bin
tu saang hai to har rang hai har din

देख इतना कि नज़र लग ही जाये मुझे
अच्छा लगता है तेरी नज़र से मर जाना

आज मेरे शहर में धूप खिली खिली सी है
पता नहीं सूरज निकला है या घर से वो निकली है