टूट कर बिखर जाते हैं वो लोग मिटटी की दीवारो की तरह
जो खुद से भी ज्यादा किसी और से मोहब्बत किया करते है

तुम छोड़ गये मुझको पर मैं बदल ना पाया खुद को
बस तुम्हें ही सोचना तुम्हें ही चाहना मेरा आज भी जुनून है...

उम्र में,ओहदे में, कौन कितना
बड़ा है, फर्क नही पड़ता ।
लहजे में, कौन कितना
झुकता है, फर्क ये पड़ता है।। Er kasZ

एक अज़ीब सा रिश्ता है मेरे और ख्वाहिशों के दरम्यां,
वो मुझे जीने नही देती… और मै उन्हे मरने नही देता.Er kasz

नीलाम कुछ इस कदर हुए, बाज़ार-ए-वफ़ा में हम आज,
बोली लगाने वाले भी वो ही थे, जो कभी झोली फैला कर माँगा करते थे!! Er kasz

पूछते हैं सब लोग तुम इतनी अच्छी शायरी कैसे करते हो ,,
तो मुस्कुरा कर कहता हूँ सब कमाल उस जालिम के दर्द का है ....

💟सच्चा प्यार हमेशा गलतइन्सान से
होताहै...
और जब ✔सही इन्सान से प्यार
होता है...
तब वक़्त⌚ गलत होता है. Er kasz

बहुत रोये वो हमारे पास आ के जब एहसास हुआ उन्हें अपनी ग़लती का !
चुप तो करा देते हम, अगर चेहरे पे हमारे कफ़न ना होता

‪#‎वो‬ तो ‪अपनी‬ एक ‪#‎आदत‬ को ‪#‎भी‬ ना ‪#‎बदल‬ सका,
....
.....
.........‪#‎जाने‬ क्यूँ मैंने ‪#‎उसके‬ लिए अपनी ‪#‎जिंदगी‬ बदल ‪#‎डाली‬ ! Er kasz

जो इंसान आपसे ज़्यादा प्यार,करेगा वो आपसे रोज़ लड़ेगा
लेकिन जब आपका एक आंसू गिरेगा तो उसे रोकने के लिए वो पूरी,दुनिया से लड़ेगा

उनको जाना था वो चले गए, हम को खोना था हम ने खो गये
फर्क सिर्फ इतना था उस ने ज़िंदगी का एक पल खोया,
हम ने एक पल में पूरी ज़िंदगी खो दी...

तक़दीर के आईने में मेरी तस्वीर खो गई
आज हमेशा के लिए मेरी रूह सो गई
मोहब्बत करके क्या पाया मैंने
वो कल मेरी थी आज किसी और की हो गई