वेसे तो मैं ठीक हु तेरे बिछड जाने के बाद भी
बस दिल का ही डर है कही धडकना ना छोड दे

आस पास तेरा एहसास अब भी लिये बैठें हैं
तू ही नज़र अंदाज़ करे तो हम शिकवा किससे करे

जितना आज़मा सकते हो आज़माओ सब्र मेरा
हम भी देखें हम टूट कर कब तलक बिखरते हैं
er kasz

कहाँ मिलेगा तुम्हे बुद्धु मेरे जैसा
जो तुम्हारी बेरुखी भी सहे और प्यार भी करे

अब तो रहम कर हालात बदल ऐ ज़िंदगी
गये वो ज़माने जब किसी को तेरी ज़रूरत हुआ करती थी

वो बेईमान नेता सी है हर दिल से खेलती है
मै भोली जनता सा हूँ हर बार उसी को चुनता हुँ

नाज है मुझे तेरी नफरतों का अकेला वारिस हूँ
मोहब्बत तो तुम्हे बहोत से लोगों से है

बहुत ज़ालिम हो तुम भी मुहब्बत ऐसे करते हो
जैसे घर के पिंजरे में परिंदा पाल रखा हो

तुम एक महँगा खिलौना हो और मै एक गरीब का बच्चा
मेरी हसरत ही रहेगी तुझे अपना बनाने की

सितारे ये ख़बर लाए कि अब वो भी परेशाँ हैं
सुना है उनको नींद आती नहीं मैं कैसे सो जाऊँ

🌹राख में भी नहीं जीने देते
चैन से लोग.......
दो दिन बाद आकर
वहाँ से भी आधा ले जाते है.।🌹

एक तेरी ख़ामोशी जला देती है इस पागल दिल को
बाकी तो सब बातें अच्छी हैं तेरी तस्वीर में

ये रिश्ते भी अजीब होते है बिना विश्वास के शुरू नही होते
और बिना धोखे के खत्म नही होते

कुछ लोग मेरी शायरी से सीते हैं अपने जख्म
कुछ लोगों को मैं चुभता हूँ सुई की नोक के जैसे

गरूर तो नहीं करता लेकिन इतना यक़ीन ज़रूर है
कि अगर याद नहीं करोगे तो भुला भी नहीं सकोगे