मेरी खामोशी देखकर मुझसे ये ज़माना बोला कि
तेरी संज़ीदगी बताती है तुझे हँसने का शौक़ था कभी

प्यार जिंदगी है मगर सच्चा प्यार कहाँ मिलता है
इस मतलबी जहां में सच्चा दिलदार कहाँ मिलता है

हम तो नादान है क्या समझेंगे मोहब्बत के उसूल
बस तुझे चाहा था तुझे चाहते हैं और तुझे ही चाहेंगे

याद करते हैं उन दिनों को तो यादों से दिल भर आता है
कल तक तो साथ जिया करते थे आज मिलने को भी दिल तरस जाता है

मेरी मुस्कराहटें इस कदर जो तुमको चुभ रही है
देख लेना एक दिन रो पड़ोगे मेरी खामोसी जब तुम्हारा इम्तहा लेगी

वो वाकिफ है मेरी बुज़दिली से इसी लिये ये सितम करता है
वो जानता है मौत से ये शक्स डरता नही पर उसके दूर जाने से डरता है

मेरी मोहोब्बत को ठुकरा दे चाहे,
मैं कोई तुज़से ना शिकवा करुन्गा,
आंखो मे रेहती है तस्वीर तेरी,
सारी उमर तेरी पूजा करुन्गा...

इतनी हिम्मत नही मुझमे की तुझे दुनिया और मुक़द्दर से छीन लाऊँ मैं
लेकिन मेरे दिल से तुझे कोई निकाले इतना हक़ तो मैंने खुद को भी नही दिया

Tum Tum Or Bas tum
Lo khatm Ho gai Meri Dastan

Har us shaksh ne dil toora
Jis par hme naaj tha

Aksar Ye Ehsas Hota Hai Mujhy
Tumhein Koi Ehsas Nahiin Mera

Yaadein Kyun Nahi Bichar Jati
Log To Pal Mein Bichar Jaty Hein.

Yeh Bhi Acha Hai Sirf Sunta Hai
Dil Agar Boltaa To Qayamat Hoti

Nahi Ishq Ka Dard Lazzat Se Khaali
Jissay Zouq Ha Wo Maza Janta Hai

LaBh sE aGaR bAat nhi kR sKte toh
AAnkhon hi aAnkhon mE bAat hOnE dO