Soch raha hun ab bewafa hone ka tarika seekh lun
Muhabbat de de ke hum ne apni qadr kho di

हमें पता है तुम कहीं और के मुसाफिर हो
हमारा शहर तो बस यूँ ही रास्ते में आया था

मैं कोई छोटी सी कहानी नहीं था
बस पन्ने ही जल्दी पलट दिए तुम नें

kya khoob wfa milli
Ghar unka bsate -bsate hum sarhk pe aa gye.

बदल जाती है ज़िन्दगी की सच्चाई उस वक़्त,
जब कोई तुम्हारा तुम्हारे सामने किसी और का हो जाता है.

ज़मीर हमसे बेचा न गया
वरना शाम तक अमीर हो जाते

ए खुदा तु ही मेरा इन्साफ़ कर दे
अगर दुरिया ही देनी थी तो मिलाया ही क्यो

किस्मत एक ऐसी तवायफ है
जो हर किसी के लिए नहीं नाचती...!!!

मै उस रात के बाद कभी उठा ही नही
जिस रात तुमने कहा था सुबह होते ही मुझे भूल जाना

कोई खास फर्क नहीं पड़ता अब ख़्वाहिशें अधूरी रहने पर
ए दोस्तो
बहुत करीब से कुछ सपनों को टूटते हुये देखा है मैंने

मैं उस किताब का आखिरी पन्ना था
मैं न होता तो कहानी खत्म न होती

रहता तो नशा तेरी यादों का ही है

कोई पूछे तो कह देता हुँ पी रखी है

फुरसत अगर मिले तो मुझे पड़ना जरूर
मै नायाब उलझनों की मुकम्मल किताब हूं

तुम मेरी बातों का जवाब नहीं देते तो कोई बात नहीं
मेरी क़ब्र पर जब आओगे तो हम भी ऐसा ही करेंगे

एक लम्हें में ही दम तोड़ गये सारे अहसास ए अल्फाज़
जब उसने कहा हाँ तुम अच्छे तो लगते हो पर तुमसे मोहब्बत नहीं है