Us Ki Jeet Se Hoti Hai Khushi Mujh Ko
Yahi Jawab Mare Paas Apni Haar Ka Tha

Aagaz e Ishq bhi Khub tha Ghalib kya kahun
Pehle to thi dil lagi phr dil ko ja lagi

Meri subha udas hai aur sham meri tanha si
Kya kasoor tha mera sirf tujhse mohbbat ke siwa

मेरी खुद्दारी इजाज़त नही देती
कैसे कहूँ कि मुझे तेरी जरुरत है

गलतफहमी में जिंदगी गुजार दी
कभी हम नहीं समझे कभी तुम नहीं समझे

तजुर्बे ने एक बात सिखाई है
एक नया दर्द ही पुराने दर्द की दवाई है

मंजिल का नाराज होना भी जायज था
हम भी तो अजनबी राहों से दिल लगा बैठे थे

मेरा टूटना बिखरना एक इत्तेफाक नहीं
बहुत मेहनत की है एक शक्स ने इसकी खातिर

मुझे ढूंढने की कोशिश न किया कर पगली
तूने रास्ता बदला मैंने मंज़िल ही बदल दी

ना जाने क्यों मुझे लोग मतलबी कहते है
एक तेरे सिवा दुनियां से मतलब नहीं मुझे

चाँद सा मुखड़ा दिखाकर मुँह छिपाना छोड़ दो
लगाकर दिल हटा लेना जुल्म ढाना छोड़ दो

उदास दिल है मगर मिलता हूँ हर एक से हंस कर
यही एक फन सीखा है बहुत कुछ खो देने के बाद

नाज है मुझे तेरी नफरतों का अकेला वारिस हूँ
मोहोबत तो तुम्हे बहोत से लोगों से है

अंदर कोई झांके तो टुकड़ो में मिलूंगा मैं
यह हँसता हुआ चेहरा तो ज़माने के लिए है

पता नहीं क्या रिश्ता था टहनी से उस पंछी का
उसके उड़ जाने पर वो कितनी देर कांपती रही