बिन बादल बरसात नहीं होती; सूरज डूबे बिना रात नहीं होती; क्या करें अब कुछ ऐसे हालात हैं; आपको याद किये बिना दिन की शुरुआत नहीं होती। सुप्रभात!

नफरतों से भरी इस दुनिया में कोई है जो मेरी खुशियों की फ़िक्र करता है भगवान उनकी हर तमन्ना पूरी करे जो अपनी प्रार्थना में भी मेरा ज़िक्र करता है। सुप्रभात!

मंजिल मिले ना मिले ये तो मुकद्दर की बात है; हम कोशिश भी ना करें ये तो गलत बात है। सुप्रभात!

सुबह सुबह सूरज का साथ हो; परिंदों की आवाज़ हो; हाथ में चाय और यादों में आप हों; खुश नुमा सुबह की क्या बात हो। सुप्रभात!

आप का हर लम्हा गुलाब हो जाये; आप का हर पल शादाब हो जाये; जिन पर बरसती हैं खुदा की रहमतें; आप का भी नाम उन में शुमार हो जाये। सुप्रभात!

ऐ सुबह तुम जब भी आना सब के लिए सतगुरु की रेहमत लाना। सुप्रभात!

एक नये दिन की शुरुआत हो; मेरी दिलरुबा मेरे साथ हो; उसके हाथों में मेरा हाथ हो; और बस प्यार ही प्यार हो। सुप्रभात।

प्यारी सी मीठी सी निंदिया के बाद; रात के कुछ सपनों के बाद; सुबह की कुछ उम्मीदों के साथ; आपको प्यार भरी सुप्रभात! सुप्रभात!

खुशियों से ऐसे नाता तेरा गहरा हो; तू रखे जहाँ कदम वही पे सवेरा हो; नींद में देखे तू मनपसंद सपने; जब आँख खुली तो सब कुछ तेरा हो। सुप्रभात!

आपकी हर सुबह मुस्कान के साथ हो; आपकी हर शाम खुशियों से भरी हो; तू जो पाना चाहे वो तुझे आसानी से मिले; यही मेरी दिल से कामना है। गुड मॉर्निंग!

उठकर देखिये सुबह का नजारा; हवा भी है ठंडी और मौसम भी है प्यारा; सो गया चाँद और छुप गया हर एक सितारा; क़बूल हो आपको सलाम-ए-सुबह हमारा। सुप्रभात!

प्यारी सी मीठी सी नींद के बाद; रात के कुछ हसीन लम्हों के बाद; सुबह की नयी सुनहरी किरणों के साथ; दुनिया में कुछ अपनों के साथ; आपको प्यारा सा सुप्रभात!

मीठे बोल बोलिए क्योंकि अल्फाजों में जान होती है इन्हीं से आरती अरदास और अजान होती है ये दिल के समंदर के वो मोती हैं जिनसे इंसान की पहचान होती है। सुप्रभात!

मत मुस्कुराओ इतना कि फूलों को खबर लग जाये; हम करें आपकी तारीफ और आपको नजर लग जाये; खुदा करे खुशियों से भरी हो आपकी जिंदगी; करते हैं ये दुआ कि इसको किसी की नज़र न लग जाये। सुप्रभात!

आज का दिन आपको हर वो ख़ुशी दे; जिसकी आप खुदा से उम्मीद रखते हो। सुप्रभात!