Mil Kar Judaa Hue To Na Soya Karenge Hum
Ek Dusre Kee Yaad Mein Roya Karenge Hum
Aansu Jhalak Jhalak Ke Satayenge Raat Bhar
Moti Palak Palak Mein Piroya Karenge Hum

किसी ने मुझसे कहा आपकी आँखें बहुत खूबसूरत हैं; मैंने कहा बारिश के बाद अक्सर मौसम सुहाना हो जाता है।

आँखों से बहता पानी झरना है या है कोई समंदर; हर पल क्यों ये लगता है जैसे कुछ टूट रहा है मेरे अंदर।

तेरे ना होने से ज़िंदगी में बस इतनी सी कमी रहती है; मैं चाहे लाख मुस्कुराऊँ फिर भी इन आँखों में नमी रहती है।

Hamare Ashk Mein Apka Khwab Chupa Hai
Hamari Khushi Mein Aapka Ehsas Chupa Hai
Tum Hamari Dastan Mein Raho Ya Na Raho
Lekin Is Dil Mein Hamesha Aapke Liye Pyaar Chupa Hai

जिस घाव से खून नहीं निकलता
समझ लेना वो ज़ख्म किसी अपने ने ही दिया है

लौट आती है बेअसर मेरी माँगी हुई हर दुआ...
जाने कौन से आसमान पर मेरा खुदा रहता है।

मेरा दिल मुझसे कहता है कि वो बापस आयेगी
मैँ दिल से कहता हूँ कि उसने तुझे भी झूठ बोलना सिखा दिया

Pyaas Bujh Jaye Zameen Sabz Ho Manzar Dhul Jaye
Kaam Kya Kya Na In Aankhon Kee Tari Aaye Humein

Tum Ne Jo Chonk Kar Har Jagah Nigah Kee Hogi
Mere Hi Dard-e-Mohabbat Ne Sada Di Hogi
Ye Jo Moti Baraste Hain Teri Yaad Mein Aksar
Badlon Ne Meri Aankhon Ko Dua Di Hogi

खामोश हूँ सिर्फ़ तुम्हारी खुशी के लिये
ये न सोंचना कि मेरा दिल दुःखता नही

हम गरीब लोग हैं किसी को मोहब्बत के सिवा क्या देंगे
एक मुस्कुराहट थी वो भी बेवफा लोगों ने छिन ली

तुझसे मिलने की बेताबी का वो अंजाम कैसे भुला दूँ
तेरे लबों की हँसी और आँखों के जाम कैसे भुला दूँ

वो नदियाँ नहीं आंसू थे मेरे! जिस पर वो कश्ती चलाते रहे! मंजिल मिले उन्हें यह चाहत थी मेरी! इसलिए हम आंसू बहाते रहे!

वापसी का सफ़र अब मुमकिन न होगा। हम तो निकल चुके हैं - आँख से आंसू की तरह।