भूल से कोई भूल हुई तो भूल समझ कर भूल जाना; पर भूलना सिर्फ भूल को; भूल से भी हमें ना भुला जाना।

रूठना मत कभी हमें मनाना नहीं आता; दूर नहीं जाना हमें बुलाना नहीं आता; तुम भूल जाओ हमें यह तुम्हारी मर्ज़ी है; हम क्या करें हमें भुलाना नहीं आता।

बहुत उदास है कोई शख्स तेरे जाने से हो सके तो लौट आ किसी बहाने से; तू लाख खफा सही एक बार तो देख कोई टूट गया है तेरे रूठ जाने से।

तुम हँसते हो मुझे हसाने के लिए; तुम रोते हो मुझे रुलाने के लिए; तुम एक बार रूठ कर तो देखो; मर जाएंगे तुम्हें मनाने के लिए।

दिल में बसे हो ज़रा ख्याल करना; अगर वक़्त मिल जाए तो याद करना; मुझे तो आदत है तुम्हे याद करने की; तुम्हें अजीब लगे तो माफ़ करना।

दुआ मांगी थी आशियाने की; चल पड़ी आँधियाँ ज़माने की; मेरा दर्द कोई नहीं समझ पाया; क्योंकि मेरी आदत थी माफ़ करके मुस्कुराने की।

माना हुई खता हमसे; पर गलती तो हम सब करते हैं; इस बार आप भी माफ़ कर दो; वरना हर बार तो माफ़ी आप ही मांगते हैं।

चुप रहते हैं क्योंकि कोई खफा ना हो जाए; हमसे कोई रुस्वा ना हो जाए; बड़ी मुश्किल से पाया है तुम को; माफ़ कर देना अगर हमसे कभी कोई खता हो जाए!

माफ़ करना अगर हमने अनजाने में आपको कभी रुला दिया; आप ने तो दुनियां के कहने पर हमें भुला दिया; हम तो वेसे भी अकेले थे; क्या हुआ अगर आपने एहसास दिला दिया!

मुझको भी समेट लेगी एक रोज़ उस अंधेरे घर की दहलीज़; तुमसे गुजारिश है माफ़ कर देना; उन कांटों को जिसने दिल दुखाया हो तुम्हारा।

राहों में भी राज़ होता है; फूलों में भी मिज़ाज़ होता है; गलतियां हमारी माफ़ करना ऐ-दोस्त; क्योंकि चमकते चाँद में भी दाग होता है।

हमारी हर खता को माफ़ कर देना; हर गिले हर शिकवे को दिल से साफ़ कर देना; अकेले ना सहना कोई भी तकलीफ़; दुःख हो या सुख आधा-आधा कर लेना।

हम रूठें तो किस के भरोसे; कौन है जो आएगा हमें मनाने के लिए; हो सकता है तरस आ भी जाए आपको; पर दिल कहाँ से लाऊँ आपसे रूठ जाने के लिए।

तुम हंसती हो मुझे हंसाने के लिए; तुम रोती हो मुझे रुलाने के लिए; तुम एक बार रूठकर तो देखो हमसे; मर जाऊंगा तुम्हें मनाने के लिए।

हमसे कोई गिला हो जाये तो माफ़ करना; याद ना कर पाये तो माफ़ करना; दिल से तो हम आपको कभी भुलाते नहीं; पर ये धड़कन ही रुक जाये तो माफ़ करना।