ऐ खुदा अपनी अदालत में मेरी ज़मानत रखना
मैं रहूँ ना रहूँ मेरे दोस्तों को सलामत रखना

‎इस‬ ‪दुनिया‬ में ‪हम‬ से जलने‬ वाले बहोत‬ है
‪‎मगर‬ इससे ‪‎कोई‬ ‪‎फरक‬ नही पड़ता‬ ‪क्योकि‬ हम पे ‪‎मारने‬ वाले भी बहोत है

सुनो प्यार करता हु इसलिए फिक्र करता हूँ
नफरत करता तो जिक्र भी ना करता

दुनिया का सबसे कठिन शब्द है वाह
जब आप किसी के लिए ऐसा बोलते हैं
तब ना सिर्फ आप अपने अहंकार को तोड़ते है
बल्कि एक दिल भी जीत लेते है

जब तक किस्मत का सिक्का हवा में है
तब खुद के बारे में फैसला कर लो क्योंकि जब वो नीचे आएगा तब अपना फैसला खुद सुनाएगा

परख अगर हीरे की करनी है तो अंधेरे का इन्तजार करो
वरना धूप में तो काँच के टुकड़े भी चमकते हैं

रोज ढलता हुआ सूरज कहता है मुझसे
आज उसको बेवफा हुए एक दिन और बीत गया

मेरी किस्मत में तो कुछ यूँ लिखा है
किसी ने वक्त गुज़ारने के लिए अपना बनाया
तो किसी ने अपना बनाकर वक्त गुजार लिया

मुझे ढूंढने की कोशिश न किया कर पगली
तूने रास्ता बदला मैंने मंज़िल ही बदल दी
er kasz

पहचान कफन से नहीं होती है दोस्तों
लाश के पीछे का काफिला बयां कर देता है रूतबा किसी हस्ती का है

तुज से नहीं तेरे वक़्त से नाराज हुं
जो कभी तुजे मेरे लिए नहीं मिला

नाम और बदनाम में क्या फर्क है
नाम खुद कमाना पड़ता है और
बदनामी लोग आपको कमा के देते हैं

कुछ चीजें कमजोर की हिफाजत में भी महफूज़ है
जैसे मिटटी की गुल्लक में लौहे के सिक्के

इतनी दिलक़श आँखें होने का ये मतलब तो नही कि
जिसे देखो उसे बरबाद कर दो

अब उनके कंगन में वो खनखनाहट नही रही
जो चोरी छिपे सब से छुपा कर उनकी कलाइयाँ पकड़ने पर हुआ करती थी