ऊँच नीच का ‪भेदभाव‬ तो ‎जमाना‬ करता होगा ‪‎yaaro

माँ तो कहती हैं ‎चंदा‬ सब का ‪‎मामा‬ लगता है

मुझे तो सुख मे साथी चाहिये
दुख मे तो मेरी माँ अकेली ही काफी है

भगवान न दिखाई देने वाले माता-पिता है
और माता-पिता दिखाई देने वाले भगवान है

दो शब्द बेटियों के लिए :-
चिड़िया को देख वो बोली पापा मुझे भी पँख चाहिए
पापा मन ही मन बोले पँख ना होते हुए भी उड़ जाना तुझे एक दिन

जिस के होने से मैं खुद को मुक्कमल मानता हूँ
मेरे रब के बाद मैं बस मेरी माँ को जानता हूँ

किसी को घर मिला हिस्से में या किसी को दुकान आयी
मैं घर में सबसे छोटा था मेरे हिस्से में माँ आयी

लोग माँ बाप कि नसीहत तो भूल जाते हैं
पर उनकी वसीयत नहीं भूलते

मैं ही नहीं बड़े बड़े सूरमा भी याद करते हैं
दर्द जब हद से ज्यादा होता है तो सब माँ को याद करते हैं

पूछता है जब कोई मुझसे कि दुनिया में अब मोहब्बत बची है कहाँ
मुस्कुरा देता हूँ मैं और याद आ जाती है माँ

कुछ ऐसा काम करो कि आपके माता-पिता अपनी प्रार्थना में कहें
हे प्रभु हमें हर जन्म में ऐसी ही संतान देना

बड़े अनमोल हे ये खून के रिश्ते इनको तू बेकार न कर
मेरा हिस्सा भी तू ले ले मेरे भाई घर के आँगन में दीवार ना कर

तुझे कोई और भी चाहे,इस बात से
दिल थोडा थोडा जलता है,||
पर फखर है मुझे इस बात पे कि,
हर कोई मेरी पसंद पे ही मरता है l

मांग लूँ यह मन्नत की फिर यही जहाँ मिले
फिर वही गोद फिर वही माँ मिले

खुदा तुने गुल को गुलशन मै जगह दी पानी को दरीया मै जगह दी
तु उसे जन्नत मै जगह देना जिसने मुझे 9 महिने पेट मै जगह दी

जानु बोलने वाली लड़की हो या ना हो
पर ओये हिरो बोलने वाली माँ जरूर है