जानु बोलने वाली लड़की हो या ना हो
पर ओये हिरो बोलने वाली माँ जरूर है

बस दुआएँ बटोरनें आया हूँ इस दुनिया में दोस्तों
माँ ने कहा दौलत तो साथ जाती नहीं

😝आज का ज्ञान😝
मां और बीबी को कभी विश्वास दिलाने की जरुरत नही होती.....
क्योकि....
मां कभी शक नही करती ....
और....
बीबी कभी यकीन नही करती...

जिंदगी में दो लोगों का ख्याल रखना बहुत जरुरी है
पिता: जिसने तुम्हारी जीत के लिए सब कुछ हारा हो
माँ: जिसको तुमने हर दुःख में पुकारा

अब‪ ‎मेरी माँ‬ के लिये क्या लिखू
मेरी माँ नै खुद‪ ‎मुझे_लिखा ‬है
HAPPY MOTHER DAY

मैंने कल शब चाहतों की सब किताबें फाड़ दी
सिर्फ एक कागज़ पर लफ्जे माँ रहने दिया
Ek Musafi

माँ के हाथो में जादू है किस्मत सँवारने का
फिर वो हाथ चाहे सिर पर फिरे या फिर गालो पर

कौन कहता है कि फरिश्ते स्वर्ग में बसते है . .
.
.
.
.
.
.
कभी अपनी माँ को ध्यान से देखा है....

मुझे जितना दिया माता ने उतनी तो मेरी औकात न थी
ये तो करम है मेरी माता का वरना मुझमे तो ऐसी कोई बात नहीं

जब सिर्फ हूँ हां करता था तू तो मै तेरी हर बात समझ लेती थी
आज जब बड़ा हो गया तो कहता है माँ तू कुछ नहीं समझती है

एक दोस्त हलवाई की दुकान पर मिल गया मुझसे कहा-
आज माँ का श्राद्ध है माँ को लड्डू बहुत पसन्द है
इसलिए लड्डू लेने आया हूँ मैं आश्चर्य में पड़ गया
अभी पाँच मिनिट पहले तो मैं उसकी माँ से सब्जी मंडी में मिला था
मैं कुछ और कहता उससे पहले ही खुद उसकी माँ हाथ में झोला लिए वहाँ आ पहुँची
मैंने दोस्त की पीठ पर मारते हुए कहा भले आदमी ये क्या मजाक है
माँजी तो यह रही तेरे पास दोस्त अपनी माँ के दोनों कंधों पर हाथ रखकर हँसकर बोला
भई बात यूँ है कि मृत्यु के बाद गाय कौवे की थाली में लड्डू रखने से अच्छा है
कि माँ की थाली में लड्डू परोसकर उसे जीते जी तृप्त करूँ
मैं मानता हूँ कि जीते जी माता-पिता को हर हाल में खुश रखना ही सच्चा श्राद्ध है

कमाकर उतनी दौलत भी में अपनी माँ को दे नही पाया
जितने सिक्कों से वह मेरी नजर उतारा करती थी

बड़ी मीठी नींद आती है जब माँ लोरियाँ सुनती है
जन्मो की भूख मिट जाती है जब माँ अपने हाथो से खिलाती है

क्या मंदिर क्या मस्जिद क्या गंगा की धार करे
वो घर ही मंदिर जैसा है जिसमे औलाद माँ बाप का सत्कार करे

शर्त लगी थी जब पूरी दुनिया को एक ही शब्द में लिखने की
तो वो पुरी किताबें ढुंढ रहे थे ओर मेंने मां लिख दिया