तेरे दर पे आने से पहले मैं बड़ा कमज़ोर होता हूँ
पर तेरी दहलीज़ को छू लेते ही मैं कुछ और होता हूँ

बिंदास मुस्कुराओ क्या ग़म हे ज़िन्दगी में टेंशन किसको कम हे

अच्छा या बुरा तो केवल भ्रम हे जिन्दगी का नाम ही कभी ख़ुशी कभी गम हे

स्वभाव रखना है तो
उस दीपक की तरह रखो
जो
बादशाह के महल में भी उतनी रोशनी देता है
जितनी किसी गरीब की झोपड़ी में"..
G.R..s

जब सब तेरी मर्ज़ी से होता है..
तो ए खुदा ये बन्दा गुन्हेगार कैसे हो गया..

जलील ना किया करो किसी फकीर को ऐ दोस्त.. वो भीख लेने नही
तुम्हें दुआएँ देने आता है...

"मेरे सजदे की दुआएँ तुम क्या जानो हमदम...सर झुका तो तेरी खुशी माँगी.. हाथ उठे तो तेरी जिँदगी माँगी.!!""

ए खुदा
बस इतनी शोहरत बक्शना मेरे नाम को
जिसके भी लबो पे आए ‪मुस्कराहट‬ के साथ आए

गुज़र गया आज का दिन भी तमाम ख्वाहिशे लेकर
साँसों ने शरीर का दामन ना छोड़ा तो कल फिर मिलेंगे

चली जाने दो उसे किसी ओर कि बाहों मे
इतनी चाहत के बाद जो मेरी ना हुई वो किसी ओर कि क्या होगी

उसको पाने की ख्वाहिश तो बहुत थी कसम से
मगर मुझको उससे दूर करने की दुआ करने वाले ज्यादा निकले

मेरे सजदे की दुआएँ तुम क्या जानो हमदम
सर झुका तो तेरी खुशी माँगी हाथ उठे तो तेरी जिँदगी माँगी

भरोसा खुदा पर है तो जो लिखा है तकदीर में वो ही पाओगे
मगर भरोसा अगर खुद पर है तो खुदा वही लिखेगा जो आप चाहोगे

तुम्हे इंसान पहचानना बिलकुल नहीं आता
हमेशा कहते रहे वो सच खुद उन्हें पहचानने में अपनी आधी ज़िन्दगी लगा दी मैंने

हम तो तराश देते पत्थरो को भी
उसे हम मोम को भी ना पिघलाना आया

चाहे दुआ कबुल हो या ना हो पगली
मुझे लोगों की तरह खुदा बदलना नहीं आता