गुल ने गुलशन से गुलफाम भेजा है; सितारों ने गगन से सलाम भेजा है; मुबारक हो आपको ये दिवाली; हमने तहे दिल से यह पैगाम भेजा है! शुभ दीपावली!

एक दुआ मांगते हैं हम अपने भगवान से; चाहते हैं आपकी ख़ुशी पूरे ईमान से; सब हसरतें पूरी हो आपकी; और आप मुस्कराएं दिलों जान से! शुभ दीपावली!

तुझे तो हमारी मोहब्बत ने मशहूर कर दिया बेवफ़ा
वरना तू सुर्खियों में रहे तेरी इतनी औकात नहीं
G.R..s

आपको आशीर्वाद मिले गणेश से; विद्या मिले सरस्वती से; दौलत मिले लक्ष्मी से; खुशियां मिले रब से; प्यार मिले सब से; यही दुआ है इस दिल से; दिवाली मुबारक हो!

शेर छुपकर शिकार नहीं करते; अपने कभी खुलकर वार नहीं करते; हम वो किंग हैं जो हैप्पी दिवाली कहने के लिए; दिवाली के दिन का इंतज़ार नहीं करते। हैप्पी दिवाली!

पल पल सुनहरे फूल खिले; कभी ना हो कांटो का सामना; जिंदगी आपकी खुशियों से भरी रहे; यही है इस दीपावली पर हमारी दिल से शुभकामना ! शुभ दीपावली!

रोशनी और ख़ुशी का पर्व है दिवाली का त्योहार; परंतु फ़ुलझाड़ियाँ करें आँखों को अंधा; और हाथों को जला सकते हैं अनार; वातावरण से प्रदूषित होता है संसार; कृपा सावधानी बरतें मेरे यार; इससे होगा जरूर सबका उधार; आप सबको सुखी और सुरक्षित; दीपावली का यह पावन त्योहार!

स्वर्ग लोक से माता लक्ष्मी; ब्रम्ह लोक से ब्रम्हा जी; कैलाश से शिव जी; और पृथवी से मेरी तरफ से; दीपावली का हार्दिक अभिनंदन!

दिनों दिन बढ़ता जाये आपका कारोबार; परिवार में बना रहे स्नेह और प्यार; होती रहे सदा अपार धन की बौछार; ऐसा हो आपका दिवाली का त्योंहार। हैप्पी दिवाली!

तू ही मेरी फूलझड़ी तू ही मेरा बम; तू ही मेरा रॉकेट तू ही मेरा अनार! फिर आ गया है उत्सव रोशनी का; तुम्हें मुबारक हो दीपावली का त्योहार! दीपावली मुबारक!

फूलों की शुरुआत कली से होती है; जिंदगी की शुरुआत प्यार से होती है; प्यार की शुरुआत अपनों से होती है; और अपनों की शुरुआत आपसे होती है! मंगल्म्यें दिवाली!

पल पल से बनता है एहसास ; एहसास से बढ़ता है विश्वास ; विश्वास से ही बनते हैं रिश्ते ; और रिश्तों से ही बनता है कोई ख़ास ; मुबारक हो आपको ये दिवाली झकास ! शुभ दीपावली!

कुमकुम भरे क़दमों से आई लक्ष्मी जी आपके द्वार; सुख समपत्ति मिले आपको अपरमपार; इस दीपावली पर माता लक्ष्मी जी; आपकी सभी तमन्नाहें करें स्वीकार! शुभ दीपावली!

लक्ष्मी आएगी इतनी कि सब जगह नाम होगा; दिन रात व्यापार बढ़ेगा इतना अधिक काम होगा; घर परिवार समाज में बनोगे सरताज; यही कामना है हमारी आपके लिए; दिवाली की ढेरो शुभ कामनाएं!

पर्व है पुरुषार्थ का दीप के दिव्यार्थ का; देहरी पर दीप जगमग एक जलता रहे; अंधकार से निरंतर युद्ध यह चलता रहे; हारेगी हर बार अंधियारे की घोर-कालिमा; जीतेगी जगमग उजियारे की स्वर्ण-लालिमा; झिलमिल रोशनी में निवेदित दिवाली की शुभकामना।