इतना बिजी भी ना रहा करो
कभी हमें भी याद कर लिया करो
शेरो शायरी ना आती हो ना सही
आये हुए एस एम एस ही फारवर्ड कर दिया करो

ज़िन्दग़ी के सफ़र से बस इतना ही सबक सिखा है
सहारा कोई नहीं देता धक्का देने को हर शख्स तैयार बैठा है

जलने वाले की दूआ से ही सारी बरकत है, वरना अपना कहने वाले तो याद भी नही करते

पत्थर तो बहुत मारे थे लोगों ने मुझे
लेकिन जो दिल पर आ के लगा वो किसी अपने ने मारा था

पत्थर से प्यार किया नादान थे हम
गलती हुई क्यों की इंसान थे हम
आज जिन्हे नज़रे मिलाने में तकलीफ होती है.
कभी उसी शख्स की जान थे हम.

कभी किसी के जज्बातों का मजाक ना बनाना..
ना जाने कौन सा दर्द लेकर कोई जी रहा होगा...

जीतने की ख़ुशी में अपना सर बुलंद मत करो
क्योंकि जीतने वाला भी अपना गोल्ड मैडल सर झुका के हांसिल करता है

“अधूरे मिलन की आस हैं जिंदगी,
सुख – दुःख का एहसास हैं जिंदगी,
फुरसत मिले तो ख्वाबो में आया करो,
आप के बिना बड़ी उदास हैं जिंदगी.”

मेरा दिल मुझसे कहता है कि वो बापस आयेगी
मैँ दिल से कहता हूँ कि उसने तुझे भी झूठ बोलना सिखा दिया

गलतफहमी में जिंदगी गुजार दी
कभी हम नहीं समझे कभी तुम नहीं समझ

खामोश हूँ सिर्फ़ तुम्हारी खुशी के लिये
ये न सोंचना कि मेरा दिल दुःखता नही

इज्जत किया करो हमारी
वरना Girlfriend पटा लेंगे तुम्हारी

कह गया था वो कभी ना आऊँगा
रात में रोज़ आ जाता है ख्वाबों मेँ झूठा कहीँ का

जिंदगी गुजर गयी सबको खुश करने में
जो खुश हुए वो अपने नही थे। जो अपने थे वो खुश नही हुए।

चिरागों से अगर अँधेरा दूर होता
तो चांदनी की चाहत क्यूँ होती
कट सकती अगर ये ज़िन्दगी अखेले
तो दोस्त नाम की चीज़ ही क्यूँ होत