ऐ दोस्त बांध ले कफन मे व्हिस्की की बोतल कब्र मेँ बैठकर पिया करेगे; इन लङकियो से तो मिली बेवफाई अब चुड़ैलों से सेटिंग किया करेंगे!

मयखाने सजे थे जाम का था दौर; जाम में क्या था ये किसने किया गौर; जाम में गम था मेरे अरमानों का; और सब कह रहे थे एक और एक और।

न गुल खिले हैं न उन से मिले न मय पी है; अजीब रंग में अब के बहार गुज़री है।

कुछ नशा तो आपकी बात का है; कुछ नशा तो धीमी बरसात का है; हमें आप यूँ ही शराबी ना कहिये; इस दिल पर असर तो आप से मुलाकात का है।

तुम क्या जानो शराब कैसे पिलाई जाती है; खोलने से पहले बोतल हिलाई जाती है; फिर आवाज़ लगायी जाती है आ जाओ दर्दे दिलवालों; यहाँ दर्द-ऐ-दिल की दावा पिलाई जाती है!

तेरे होठों में भी क्या खूब नशा मिला; यूँ लगता है तेरे जूठे पानी से ही शराब बनती है।

पी के रात को हम उनको भूलने लगे; शराब में गम को मिलाने लगे; दारु भी बेवफ़ा निकली यारों; नशे में तो वो भी याद आने लगे।

नशा हम करते हैं इल्ज़ाम शराब को दिया जाता है; मगर इल्ज़ाम शराब का नहीं उनका है; जिनका चेहरा हमें हर जाम में नज़र आता है।

मैं तोड़ लेता अगर तू गुलाब होती; मैं जवाब बनता अगर तू सवाल होती; सब जानते हैं मैं नशा नही करता; मगर मैं भी पी लेता अगर तू शराब होती।

पैमाना कहे है कोई मय-ख़ाना कहे है; दुनिया तेरी आँखों को भी क्या क्या न कहे है।

तोहफे में मत गुलाब लेकर आना; मेरी क़ब्र पर मत चिराग लेकर आना; बहुत प्यासा हूँ अरसों से मैं; जब भी आना शराब लेकर आना।

बड़ी भूल हुई अनजाने में ग़म छोड़ आये महखाने में; फिर खा कर ठोकर ज़माने की फिर लौट आये मयखाने में; मुझे देख कर मेरे ग़म बोले बड़ी देर लगा दी आने में।

मैं उनकी आँखो से छलकती शराब पीता हूँ; गरीब हो कर भी मँहगी शराब पीता हूँ; मुझे नशे में वो बहकने नहीं देते; उन्हें तो खबर ही नहीं कि मैं कितनी शराब पीता हूँ।

थोड़ी सी पी शराब थोड़ी उछाल दी कुछ इस तरह से हमने जवानी निकाल दी!

पीने दे शराब मस्जिद में बैठ के ग़ालिब; या वो जगह बता जहाँ खुदा नहीं है।