भांग मिठाई गुब्बारे पिचकारी और रंग; आप सभी के बिना है सब अधूरी; आओ हम खेलें गुलाल के संग होली; कर दो हमारी होली की खुशियाँ पूरी। होली मुबारक।

रंगों के त्यौहार में सभी रंगों की हो भरमार ढेर सारी खुशियों से भरा हो आपका संसार यही दुआ है भगवान् से हमारी हर बार होली मुबारक आपको बार बार!

हवा के हाथ पैगाम भेजा है; रोशनी के जरिये एक अरमान भेजा है; फुरसत मिले तो कबूल कर लेना; इस नाचीज ने रंगो के त्योंहार पर प्यार भेजा है। शुभ होली।

मैं जहाँ जहाँ देखता हूँ मुझे तेरा चेहरा नज़र आता है। इसमें तेरा कसूर नहीं है। सारे के सारे चेहरे आज एक ही रंग में रंगे हुए हैं। होली मुबारक।

रंगों का ये जो त्यौहार है; इस दिन ना हुए लाल पीले तो ज़िन्दगी बेकार है; रंग लगाना तो इतना पक्का; जितना पक्का तू मेरा यार है। होली मुबारक मेरे यार!

सोचा किसी अपने से बात करें; अपने किसी ख़ास को याद करें; किया जो फैसला होली मुबारक कहने का; तो दिल ने कहा क्यों ना आपसे शुरुआत करें। होली मुबारक।

रंग बरसे भीगे चुनर वाली रंग बरसे! ओ रंग बरसे भीगे चुनर वाली रंग बरसे! अरे रंग बरसे भीगे चुनर वाली रंग बरसे! अब घर जाओ नहीं तो निकाल दिये जाओगे घरसे!

रंगों का त्योंहार मुबारक हो; खुशियों की फुहार मुबारक हो; सात रंग से सजे आपका जीवन; एक नहीं दो नहीं सौ-सौ बार मुबारक। होली की हार्दिक शुभकामनाएं।

रंगों भरी पिचकारी रंगों भरे गुब्बारे; गुजिया और मिठाइयों की हो भरमार; ठंडई और भांग से भरा हो हर गिलास; ऐसा है हमारा रंगों भरा त्यौहार। होली मुबारक!

निकलो गलियों में बना कर टोली; भिगा दो आज हर एक की झोली; कोई मुस्कुरा दे तो उसे गले लगा लो; वरना निकल लो लगा के रंग कह के हैप्पी होली। होली की शुभकामनाएं!

रंगों में रंगी लड़की क्या लाल गुलाबी है! जो देखता है कहता है क्या माल गुलाबी है! पिछले बरस जो तूने भिगोया था होली में! अब तक निशानी का वो रुमाल गुलाबी है!

ख़ुशी के इस पल में ये दिल बस मुस्कुराए; हर गम भुला के प्यार भरे सपने सजाए; इन हसीन पलों की खुशबु इस दिल को बहुत भाए; शायद इन पलों का संगम ही जन्नत कहलाए। हैप्पी होली!

रंगों के त्यौहार में सभी रंगों की हो भरमार; ढेर सारी खुशियों से भरा हो आपका संसार; यही दुआ है हमारी भगवान से हर बार; मुबारक हो आपको होली का यह त्यौहार। होली मुबारक!

रंगों के त्यौहार में सभी रंगों की भरमार; ढेर सारी खुशियों से भरा हो आपका संसार; यही दुआ है भगवान से हमारी हर बार; और खेलें हम होली संग अपने यार। होली की शुभकामनाएं!

रंगों में घुले लोग क्या लाल गुलाबी हैं; जो भी देखता है कहता है क्या शाम गुलाबी है; पहले बरस जो भीग गया था होली में; अब तक निशानी का वो रुमाल गुलाबी है। होली मुबारक हो!