जब शिद्दत से चाहोगे तभी आरज़ू पूरी होगी
हम वो नहीं जो खैरात में तुम्हें मिल जायें
G.R..s

मेरे पास लफ्ज नही बातें नही शिकायतें नही
एक हसरत है तेरे सीने से लग के तेरी धडकने सुनू

आशिकी करने को ‪‎दिल‬ नहीं करता अब मगर
देखते ही ‪‎तेरा चेहरा‬ दिल फिर ‪‎आशिक‬ हो जाता है

कसम से तुझे पाने की ख्वाहिश तो बहुत थी
मगर मुझे तुझसे दूर करने की दुँआ‬ करने वाले ज्यादा निकले

हम तो निकले थे तलाशे इश्क में अपनी तनहाईयों से लड़ कर
मगर गर्मी बहुत थी गन्ने का रस पी के वापिस आ गए

ए खुदा काश तेरा भी एक खुदा होता , तो
तुझे भी ये अहसास होता , कि दुआ कुबुल ना
होने पे , कितनी तकलीफ होती है ...

युँ न आजमाया करो मेरी दोस्ती-ए-वफा को साहिबां
चाहे जिस तराजू में तौलकर देख लो पलड़ा अपनी ओर ही झुकता नज़र आएगा

मैंने जब खुदा से कहा.....तू मेरी दुआ
भी कभी कुबूल कर दे...उसने भी मुस्कुरा कर कह
दिया....तू एक ही शक्श को मांगना छोड़ दे...!

किसी रोज़ याद न कर पाऊँ तो खुदग़रज़ ना समझ लेना दोस्तों
दरअसल छोटी सी इस उम्र मैं परेशानियां बहुत हैं
मैं भूला नहीं हूँ किसी को मेरे बहुत अच्छे दोस्त है ज़माने में
बस थोड़ी जिंदगी उलझी पड़ी है 2 वक़्त की रोटी कमाने में

Pyar krne wale marte nahi maar diye jate hai,
Hindu kehte h jala do inhe,
Muslim kehte h dafna do inhe,
Par koi ye nhi kehta k mila do inhe ..!

देखेंगे हम आईना उस दिन
कि खुद का ही अक्स नज़र आये

ना शौहर बनाया न दीवाना बनाया
उसे कोई रिश्ता ना निभाना आया

मेरे आँसुओ की गवाही ना लेना
तेरे ज़ुल्मो की कहानी बिखर जायेगी

क्या दिल लगी थी उस
से की मैने आखरी ख्वाइश में भी उसकी वफा मांगी

हर रोज़ हर शाम हर सुबह दी है !!
जब भी दी इस दिल ने तेरे हक़ में दुआ दी है !!