आज आपकी रात की अच्छी शुरुआत हो; प्यार भरे सपनों की बरसात हो; जिनको दिन भर ढूंढती हैं आपकी पलकें; रब करे सपनो में उनसे मुलाकात हो। शुभ रात्रि!

फूल खिलते रहे ज़िंदगी की राह में; हँसी चमकती रहे आपकी निगाह में; कदम-कदम पे मिले ख़ुशी की बहार आपको; यही दिल देता है दुआ बार-बार आपको। शुभ रात्रि!

आँखें भी मेरी पलकों से सवाल करती हैं; हर वक़्त आपको ही याद करती हैं; जब तक ना कह दें शुभ रात्रि आपको जालिम; सोने से भी इंकार करती हैं। शुभ रात्रि!

ये रात चांदनी बन कर आपके आँगन में आये; ये तारे सारे लोरी गाकर आपको सुलायें; हों इतने प्यारे सपने आपके; कि नींद में भी आप मुस्कराएं। शुभरात्रि!

सोती हुई आँखों को सलाम हमारा; मीठे सुनहरे सपनो को आदाब हमारा; दिल में रहे प्यार का एहसास सदा ज़िंदा; आज की रात का यही है पैगाम हमारा। शुभ रात्रि!

पलकों में कैद कुछ सपने हैं; कुछ बैगाने और कुछ अपने हैं; ना जाने क्या कशिश है इन ख्यालों में; कुछ लोग हमसे दूर होकर भी कितने अपने हैं। शुभ रात्रि!

नहीं पता कौन सी बात आखिरी हो; ना जाने कौन सी मुलाक़ात आखिरी हो; याद करके इसलिए सोते हैं सब को; ना जाने ज़िन्दगी में कौन सी रात आखिरी हो। शुभ रात्रि!

हर सपना ख़ुशी पाने से पूरा नहीं होता; कोई किसी के बिना अधूरा नहीं होता; जो चाँद रोशन करता है रात भर सबको; हर रात वो भी पूरा नहीं होता। शुभ रात्रि!

पास आपके दुनिया का हर सितारा हो; दूर आपसे गम का हर किनारा हो; आँखे बंद कर जब सोने लगो आप; तो बंद आँखों में भी सामने आपके हसीन नज़ारा हो। शुभ रात्रि!

जब रात में आपको किसी की याद सताए; सुहानी हवा जब आपके बालों को सहलाये; तो कर लो आँखें बंद और सो जाओ; कहीं वो आपके ख्वाबों में ना आ जाये। शुभ रात्रि!

अगर मंज़िल पानी है तो हौंसला साथ रखना; अगर प्यार पाना है तो ऐतबार साथ रखना; और अगर हमेशा मुस्कुराना है तो सोने से पहले हमें याद रखना। शुभ रात्रि!

दिल के सागर मे लहरें उठाया ना करो; ख्वाब बनकर नींद चुराया ना करो; बहुत चोट लगती है मेरे दिल को; तुम ख़्वाबों में आ कर यूँ तडपाया ना करो। शुभ रात्रि!

जीवन के हर मोड़ पर सुनहरी यादों को रहने दो; ज़ुबान पर हर वक्त मिठास को रहने दो; यही अंदाज है जीने का कि ना रहो उदास और ना किसी को रहनो दो। शुभ रात्रि!

दिल में जगह दी तो दिल तोड़ गए; बेपनाह मोहब्बत की तो बेवफ़ाई कर गए; तरस ना आया उन्हें हमारी वफाओं पर; इसलिए तड़पने के लिए तनहा छोड़ गए। शुभ रात्रि!

हम कभी तुमसे खफ़ा हो नहीं सकते; वादा किया है तो बेवफा हो नहीं सकते; आप भले ही हमें भुलाकर सो जाओ; मगर हम आपको याद किये बिना सो नहीं सकते। शुभ रात्रि।