रूठो मत, हमें मनाना नहीं आता
दूर मत जाना, हमें बुलाना नहीं आता
तुम भूल जाओ तुम्हारी मर्जी
मगर हम क्या करें हमें तो भुलाना भी नहीं आता

सच्चा प्यार हमेशा गलत इंसान से होता है; और जब सही इंसान से सच्चा प्यार होता है तब वक़्त गलत होता है।

हर छलकती बोतल शराब नहीं होती
हर खिलती हुई कलि गुलाब नहीं होती
चाहते तो ताजमहल हम भी बनवा देते
लेकिन हर एक लड़की मुमताज नहीं होती

तुमने चाहा ही नहीं हालात बदल सकते थे; तेरे आंसू मेरी आँखों से निकल सकते थे; तुम तो ठहरे रहे झील के पानी की तरह; दरिया बनते तो बहुत दूर निकल सकते थे!

ये उनके प्यार का आलम है मेरे अश्क बहतें हैं
बहुत खामोश है एहसास जिसको दर्द कहतें हैं

भरे बाजार में हर एक लड़की Jalegi
जब अपनी वाली अपने साथ Chalegi

कफन मेँ लिपटी मेरी लाश के पास आकर वो आँसू पूछते हुए बोली
पागल आज नए कपङे क्या पहन लिए बात भी नहीँ कर रहा
G.R..s

कौन समझ पाया है आज तक हमें
हम अपने हादसों के इकलौते गवाह है

वो मुझे भूल गयी होगी वर्ना
इतनी मुद्दत कोई ख़फ़ा नहीं रहता...!

मुझे बदनाम करने का बहाना ढूँढ़ते हो क्यों"मैं खुद
हो जाऊंगा बदनाम पहले नाम होने दो..

मुझे तलाश है एक रूह की जो मुझे दिल से प्यार करे
वरना जिस्म तो पैसो से भी मिल जाया करते है.

दिल तोड़ने वालों को सजा क्यों नहीं मिलती; हर किसी को प्यार में सफलता क्यों नहीं मिलती; लोग कहते हैं इश्क तो बीमारी है; तो फिर मेडिकल स्टोर में इसकी दवा क्यों नहीं मिलती।

बुरा हमेशा वही बनता हे
जो अच्छा बनके टूट चूका होता हे.

लोग कहते है की पैसा बोलता है
मगर हमने कभी पैसे को बोलते नहीं देखा
हां कई लोगों को चुप करवाते देखा है.....!!

गंगा सागर से मिल कर बोली मुझे अपने में समाते तो फिर सागर कहलाते हो? सागर बोला अपने आंसुओं को दूर तक बरसाया है तब जाकर तुझको पाया है!