हमारी सोच और लोगो कि सोच मे बस ईतना हि फर्क हे के
वो सरकारी आदमी बनना चाहते हे और हम सरकार

तुमने कहा था हर शाम तेरे साथ गुजारेगे,
तुम बदल चुके हो या फिर तेरे शहर में शाम ही नहीं होती?

एक तू ही है जिसे हर किस्सा सुनाने को जी चाहता हैं
यूं तो हमारे लब्ज सुनने को दुनिया बेताब ह

मेरा हर लम्हा चुराया आपने; आँखों को एक ख्वाब देखाया आपने; हमें ज़िन्दगी दी किसी और ने; पर प्यार में जीना सिखाया आपने!

हसरत थी सच्चा प्यार पाने की
मगर चल पडी आँधियां जमाने की
मेरा गम कोई ना समझ पाया
क्युँकी मेरी आदत थी सबको हसाने की

बहुत खूब सूरत है आखै तुम्हारी इन्हें बना दो किस्मत हमारी
हमें नहीं चाहिये ज़माने की खुशियाँ अगर मिल जाये मोहब्बत तुम्हारी

जिनकी याद में हम दीवाने हो गए वो हम ही से बेगाने हो गए
शायद उन्हें तालाश है अब नये प्यार की क्यूंकि उनकी नज़र में हम पुराने हो गए

कर जाते हैं शरारत क्योंकि थोड़े शैतान हैं हम; कर देते हैं ग़लती क्योंकि इंसान हैं हम; ना लगाना हमारी बातों को क़भी दिल से; आपको तो पता है ना कितने नादान हैं हम।

अगर प्यार में पागलपन ना हो तो वो प्यार नहीं है।

तड़पती देखता हूँ जब कोई चीज
.
उठा लेता हूँ अपना दिल समझ कर

बहुत भीड़ हो गई है लोगों के दिलो में
इसलिए आजकल हम अकेले ही रहते ह

सिकंदर तो हम अपनी मर्जी से हें,
पर हम दुनिया नहीं दिल जीतने आये हें..

ना Block किया था और ना कभी करेंगे तुझे तो
अपना pro pic और status दिखा दिखा के जलायेगे

पतंग सी है जिंदगी कहा तक जायेगी...
रात हो या उम्र एक न एक दिन कट जायेगी..!!

मेरा गुस्ताख़ दिल तेरी ज़रा बदमाश सी आंखें
अभी भी प्यार करने की बहुत वज़हें बची हैं
G.R..s