मैं तो चिराग हुँ तेरे आशियाने का
कभी ना कभी तो बुझ जाऊंगा
आज शिकायत है तुझे मेरे उजाले से
कल अँधेरे में बहुत याद आऊंगा

सपना कभी साकार नहीं होता; मोहब्बत का कोई आकार नहीं होता; सब कुछ हो जाता है इस दुनियां में; मगर दोबारा किसी से प्यार नहीं होता।

तनहाई में फरियाद तो कर सकता हूँ वीराने को आबाद कर सकता हूँ
जब चाहूँ तुम्हे मिल नहीं सकता लेकिन जब चाहूँ तुम्हे याद कर सकता हूँ

अरमान था तेरे साथ जिंदगी बिताने का
शिकवा है खुद के खामोश रह जाने का
दीवानगी इस से बढकर और क्या होगी
अज भी इंतजार है तेरे आने का

घर से बाहर वो नक़ाब मे निकली
सारी गली उनकी फिराक मे निकली
इनकार करते थे वो हमारी मोहब्बत से
ओर हमारी ही तस्वीर उनकी किताब से निकली

प्रेमी प्रेमिका को शादी के लिये मना करता हुआ! प्रेमी: भगवान् के लिये कुछ दिन रुक जाओ! मैं तुम्हें कुछ बन के दिखाऊंगा! प्रेमिका: तुम कुछ बनो न बनो पर मैं तुम्हारे बच्चे की माँ जरुर बन के दिखाउंगी!

Wo Mujhse Door Rehkar Khush Hai Toh Rehne Do Use,
Mujhe Chahat Se Zyada Uski Muskurahat Pasand hai.

मुस्कान प्रेम की भाषा है।

प्यार एक गंभीर मानसिक रोग है।

हर महान प्यार एक महान कहानी के साथ शुरू होता है।

अच्छा जीवन एक प्रेम से प्रेरित और ज्ञान द्वारा निर्देशित होता है।

ना Block किया था और ना कभी करेंगे तुझे तो
अपना pro pic और status दिखा दिखा के जलायेगे

हमारा हक तो नही है फिर भी ये तुमसे कहते है
हमारी जिँदगी ले लो मगर उदास मत रहा करो

शेर को सवा शेर कही ना कही जरुर मिलता है
और रही बात हमारी तो हम तो बचपन से ही शिकारी है

कोई ना दे हमें खुश रहने की दुआ तो भी कोई बात नहीं
वैसे भी हम खुशियाँ रखते नहीं बाँट दिया करते हैं