गुजर गया वो वक़्त जब तेरी हसरत थी मुझे
अब तू खुदा भी बन जाये तो भी तेरा सजदा ना करू

हम दोस्ती करते है तो अफसाने लिखे जाते है
और दुश्मनी करते है तो तारीखे लिखी जाती है

तलवार कि धार से ज्यादा हमारी जुबान चलति हें
मौत का ख्वाब क्या दिखाता हे वो तो खुद हमसे डरती हे

बेशक तुम्हें गुस्सा करने का हक है मुझपे
पर नाराजगी मेँ ये मत भुल जाना की हम बहुत प्यार करते हैं तुमसे

करो अगर प्यार तो धोखा मत देना; चाहने वालों को दर्द का तोहफा मत देना; आपकी याद में दिल से रोता हो जो वो; प्यार में उसको कभी धोखा मत देना।

जो बीत गया है वो अब दौर ना आएगा
इस दिल में सिवा तेरे कोई और ना आएगा

​सच्चा प्रेम भूत की तरह है​ चर्चा उसकी सब करते हैं देखा किसी ने नहीं।

रिश्ते अगर बढ़ जाये हद से तो ग़म मिलते है
इसलिए आजकल हम हर शख्स से कम मिलते है

मुझे अपने किरदार पे इतना तो यकीन है की
कोई मुझे छोड़ सकता है लेकिन भूल नही सकता

प्यार के स्पर्श से हर कोई कवि बन जाता है।

जिंदा रहने के लिए तेरी कसम
एक मुलाकात जरूरी है सनम

जो ना समझ है वो ही मोहब्बत करता है
वो मोहब्बत ही क्या जो समझ में आ जाए

प्यार कहाँ किसी का पूरा होता है; प्यार का तो पहला अक्षर ही अधूरा होता है।

ये तेरा मेरा रिश्ता भी वेल्डिंग की तरह है
दोनों खूब जलते हैं जुड़ने के लिए

शेर को सवा शेर कही ना कही जरुर मिलता है
और रही बात हमारी तो हम तो बचपन से ही शिकारी है