लौट आती है बेअसर मेरी माँगी हुई हर दुआ...
जाने कौन से आसमान पर मेरा खुदा रहता है।

सुना है आज उस की आँखों मे आसु आ गये
वो बच्चो को सिखा रही थी की मोहब्बत ऐसे लिखते है

इस जहान में कब किसी का दर्द अपनाते हैं लोग; रुख हवा का देखकर अक्सर बदल जाते हैं लोग।

उनका हम से मिलना भी तो कुछ ऐसा था; जैसे लहरें मिल के समुंद्र से गले और बिछड़ जाती हैं।

दिलों में खोट जुबां से प्यार करते हैं; बहुत से लोग दुनिया में बस यही प्यार करते हैं।

तेरी महफ़िल से उठे तो किसी को खबर तक ना थी तेरा मुड़-मुड़कर देखना हमें बदनाम कर गया।

​मेरे बारे में अपनी सोच को थोड़ा बदलकर देख​;​ मुझसे भी बुरे हैं लोग तू घर से निकलकर देख​। ​

सौ बार मरना चाहा उनकी निगाहों में डूब के; वो हर बार निगाहें झुका लेते हैं मरने भी नहीं देते।

​​​दिल की किस्मत बदल न पाएगा​;​ बंधनो से निकल न पाएगा​;​ तुझको दुनिया के साथ चलना है​;​ ​तु मेरे साथ चल न पाएगा​।

अच्छा है डूब जाये सफीना हयात का; उम्मीदो-आरजूओं का साहिल नहीं रहा। अनुवाद: सफीना = नाव हयात = ज़िंदगी साहिल = किनारा

ज़ख्म देने की आदत नहीं हमको; हम तो आज भी वो एह्साह रखते हैं; बदले-बदले तो आप हैं जनाब; हमारे आलावा सबको याद रखते हैं।

उन्हें शिकायत है हमसे कि हम हर किसी को देखकर मुस्कुराते हैं; ना समझ वो क्या जाने हम तो हर चेहरे में वो ही नज़र आते हैं।

​मेरी वफाएं सभी लोग जानते हैं; उसकी जफ़ाएं सभी लोग जानते हैं; वो ही ना समझ पाए मेरी शायरी; दिल की सदाएं सभी लोग जानते है।

दस्तूर-ए-उल्फ़त वो निभाते नहीं हैं; जनाब महफ़िल में आते ही नहीं हैं; हम सजाते हैं महफ़िल हर शाम; एक वो हैं जो कभी तशरीफ़ लाते ही नहीं हैं!

कोई चला गया दूर तो क्या करें; कोई मिटा गया सब निशान तो क्या करें; याद आती है अब भी उनकी हमें हद से ज्यादा; मगर वो याद ना करें तो क्या करें।